Mother

तुमसे बढ़कर कोई नहीं माँ
सहेली, हमदर्द, फरिश्ता, सब तुम हो
मेरी सारी दुनिया तुमसे है
तुम मेरी ज़िन्दगी की सबसे बड़ी नेमत हो
भगवन कैसे होगें यह जानें कि अगर इच्छा हो
तुम्हारे पैरों में ही स्वर्ग है और तुम्हारे चेहरे में ही है वोह
मेरी माँ जैसा दुनिया में कोई नहीं
मुझे भगवन या किसी से कोई शिकायत नहीं
तुम्हारे रूप में वह ही साथ है मेरे तो
तुम्हारे बारे में लिखने के लिए शब्द कम पड़ जातें है
कितना कुछ किया है तुमने बिन बताये ही तो
तुम्हे सब कुछ बताये बिना मेरा दिन पूरा नहीं होता
और तुम अपने दर्द भी हस कर छुपा लेती हो
तुम मेरी हर परेशानी का हल हो और हर पल मेरे साथ हो
तुम्हारे बैगेर मैं कुछ नहीं
मेरी माँ तुमसे बढ़ कर न कोई था न कोई है न कोई होगा कभी
तुम ही मेरा सब कुछ हो

Tum se badh kar koi nahi maa
Saheli, hamdard, farishta, sab tum ho
Meri saari duniya tumse hai
Tum meri zindagi ki sbse badi naymaat ho
Bhagwan kaisi hoga yeh jaane ki iccha ho
tumhare pariroo mein hi swarg ha aur tumhare chehre mein hi hai woh
Meri maa jaisa duniya mein koi nahi
Mujhe bhagwan ya kisi se koi shikayat nahi
Tumhare roop mein woh hi saath haI mere toh
Tumhare baare mein likhne ke liye shabd kaam pad jaatien hai
Kitna kuch kiya hai tumne bin bataye hi toh
Tumhe sab kuch bataye bina mera din pura nahi hota
Aur tum apne dard bhi haas kar chupa leti ho
Tum meri har pareshani ka hal ho aur har pal mere saath ho
Tumhare begar mein kuch nahi
Meri maa tumse baadh kar na koi tha na koi hai na koi hoga kabhi
Tum hi mera sab kuch ho


Written by Swati Sharma

Copyright 2020 © Swati Sharma and Learning with life. All rights reserved.

Published by Swati Sharma

discovering myself

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: